Search This Blog

Saturday, 30 August 2014

नारी और गाडी

आज भी अगर,

 नारी गाडी चलाती,

नजर आए तो,

कई अविचलित विचारधारे,

घुरती नजर आती है।

नारी और गाडी,

सभ्य असभ्य के बीच,

अविचलित विचारधारे हिचकोले खाती,

नजर  आती,

नारी और गाडी।



       



Friday, 29 August 2014

वो बात ना रही

इतराती फिर  थी जिस  जवानी पर,


वो जवानी ना रही,


तुझ मे वो बात ना रही।


वो जिन  के लिए तु सब कुछ थी,


संगी साथी सब मशगुल हुए।


अब किसी के पास तेरे लिए समा न रहा।


इतराती फिर  थी जिस  जवानी पर,


वो जवानी ना रही,


तुझ  मे अब वो बात ना रही।


ढल चुका दिन,हो चुकी शाम,


अब वो उजाले ना रहे।


इतराती फिर  थी जिस  जवानी पर,


वो जवानी ना रही,


तुझ मे वो बात ना रही।


कंपकंपाते  होठं, डगमगाती चाल,


आखों मे वो नमी ना रही।


इतराती फिर  थी जिस  जवानी पर,


वो जवानी ना रही,


तुझ मे वो बात ना रही।


वो चाहतें, ख्वाहिशें और बंदिशें,


सब वक्त की आग मे राख हुई,


सिवा धुँए के इस आग मे,


बात ना रही।


इतराती फिर  थी जिस  जवानी पर,


वो जवानी ना रही,


तुझ मे अब वो बात ना रही।




IN THE NAME OF PROGRESS


Getting nostalgic,


Lost in the memories,


I miss those chirping birds,


Who frequent the parapet,


I missed whiff of fresh air,


Those dew drops,


Which carpeted green,


That tree, pillar of strength,


Underneath which I played,


Is no more,


Those trembling
hands,


Shaking holding me like rock,


Pampering grandpa,


All are gone,


Those narrow aisles,


That experience of Castle,


All is in backlane,


Those bundles of hugs,


abundance of love,


All are lost,


In the fire of progress,


Hopes snatched,


Smiles gripped,


Got our share of,


Abhorrent worries,


Fumbling tensions,


Paying price,


What was free,


All in the name of progress.


                              In the name of development we have paid heavy price.what was available free and freely has price tags attached.Just think in the name of progress what are our ggains and losses.

Thursday, 28 August 2014

चिडिया









                         
     मुडेर पर रोज जो चहचहाती थी,

    वो चिडिया अब नजर नही आती।

   नन्हे नन्हे पंखो से फडफडाती

   रोज छत पर जो चली आती थी

   वो   चिडिया अब नजर नही आती।

   दादी  के  किसे कहानियों मे

   बच्चो को जो बहलाती थी

   वो चिडिया अब नजर आती।

   मासूम सी दिखने वाली खुशी,

   आखों से दिल मे उतर जाती थी,

   वो  चिडिया अब नजर नही आती।

   भोर के शोर मे खो गई जो,

   वो चहचहाहट सुनाई नहीं देती।

  वो  चिडिया अब नजर नहीं आती।

WHY GIVE UP




                                                                                                                     


             When problems flare     

            Tensions galore,

            When you can't take anymore.

            Your share of tensions,

             Everything seems more than enough,

            Tears roll down,

            And chaos all around,

            As heart bleeds,

            Piercing pain overpowers,

            With no hope,

            Life seems to be lost,

            Don't give up,

            As what can't be undone,

            Is not worth moaning,

            In those hours of distress,

            Don't take stress,

            Gather strength,

             Nurture your dreams,

            Fire up your aspirations   
  
             With perspiration,
                         
            Let all apprehensions be gone,
                                           
             Overcome fears,

             Take a step and leap ahead.






   

Wednesday, 27 August 2014

आम सोच










                      बस की अगली सीट पर बैठी लडकी,

                      सिमटी चिपटी सी ,

                      साथ वाले से हसं कर बाते कर रही थी।

                      न जाने क्यु मुझे वो बुरी लग रही थी।  
        
                      कुछ दिन बाद वो लडकी मेरे पास आकर जो बैठी,

                     सिमटी चिपट कर,

                     हसं कर बातें मुझ से जो करने लगी थी।

                     न जाने क्यु

                     आज वो मुझे अच्छी लग रही थी।


                                जरा सोच के देखो कही यह आप तो नहीं।
           

 

  

Before I Go



 
  One day I have to go,

To drink the nectar of death,

Don,t know when,

But before I go ,

I want to make up,

For the lost time,

lost opportunities,

lost relations,

Before I go,

I wish to see all smiles,

And spark in eyes,

Before I go,

I wish that love prevails,

No one wales,

Hatred has no ground,

Peace embrace us all,

Before I go,

Let all prayers be answered,

Let all be guided and healed,

Glory is of all,

Only then ,

With laughter on my lips,

I will bid adieu,

To be with divine.




  

कल का आज


चाय की दुकान पर काम करता

एक नन्हा सा बच्चा,

फटेहाल नंगे पाँव,

बिखरे बाल , सुनी आखें ,

बचपन रौदता , रुठी जवानी की और बढता ,

गुनगुना रहा था,

सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा।

वो बेखबर कल,

आज की बुनियाद पर,

भविष्य के सुनहरे स्वपन संजोये,

गालियों की बौछार से बचता,

ख्वाबों की माला बिखरता देखता,

बेखबर फिर भी गुनगुना रहा था,

सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा।  

Tuesday, 26 August 2014

अटल सत्य


धीरे धीरे गिनती बढती गई,

सासें काम होती गई।

वो सोया मुख मोड गया,

तन को पीछे छोड गया।

वो गया वो गया।

तन से जिन को प्यार था,

वो ही आग दे चले।

नामोनिशान राख मे बदल चले,

वो गये वो जला वो जला।

इस पर भी बस न हुई,

गंगा मे बहा गये,

वो बहा वो गये वो गये।

बाद इस के तसवीर बन दीवार से लटकाया गया,

चंद फुलो की माला से सजाया गया,

धुल का परदा कर सजदा किया,

बस ईसी तरह बाद उसके उसे याद किया।
  

 





    

Monday, 25 August 2014

lost childhood




     




                                                       LOST CHILDHOOD

Deprive them spoil them,

Snatch toys,

And,

Let innocence to capitulate,

Shroud them with miseries and emptiness above,

Like refugees,

Put them in oblivion,

Fill them from head to toe,

With the poison of avenge,

In the name of social change,

Nourish and nurture them,

With hatred and vengeance,

Then,

With mutilated minds,

Govern these discontented souls,

To,

Let veil wallow in vain,

Seeing childhood lost.


       Aren,t we responsible for lost innocence of our children?

    

           

Sunday, 24 August 2014

चाहत

         जब तुम बुढी हो जाओगी,


और


नींद तुम से कोसों दुर होगी,


चेहरे पर झुर्रियां होगीं,


और


बाल सफेद होंगे,


मुहँ में दांत न होंगे,


और


आंखो मे अंधेरे होगें,


उस वक्त,


जब सर्दियों की बर्फीली रात होगी,


याद   तुम्हारें पास होगी ,


तो ,


याद करना,


उन  दिनों को जब तुम  जवां  थी,


हसीन  कन्या थी ,


आखों में उजाले थे,


और चाहने  वाले हजारों थे,


पर,


तब भी एक था,


जो,


तुम्हे चाहता था,


तुम्हारे  चेहरे की बदलती रेखाओं  में,


खुद  को तलाश था