Search This Blog

Thursday, 9 April 2015

माँ मै बहु ले आया

मुझे आज भी याद है वो दिन,

तुने जब कहा था,

माँ

मै बहु ले आया,

तेरे आराम का सामान ले आया।

तेरे बुढे हाथों पर छाले देखे नहीं जाते,

मरहम प्यार वाली मै ले आया।

अश्क अब ना बहाएगी,

चिटकनी खोलने भी तु ना जाएगी,

माँ,

मै बहु ले आया।

सुई में धागा भी तु ना डालेगी,

अरमान फरमान सब पूरे होगे,

बैठ हुक्म चलाना तु, अब

माँ,

मै बहु ले आया।

दीवारों से बातें अब ना करोगी,

साथ देने को तेरा अब,

माँ,

मै बहु ले आया।

दुध का कर्ज चुका ना पाउंगा,

ममता को सजदा, सेवा करने को अब,

माँ,

मै बहु ले आया।

बेटी बन तुझको पूजेगी,

दवा दुआ सी करेगी,अब

माँ,

मै बहु ले आया।

चंद दिनों मे मेरे बेटे,क्या हो गया,

प्यार दुलार कहाँ खो गया।

वो रोटी जो भाती थी तुझको,

जली जली सी क्यु  लगने लगी।

दुध के कर्ज की बातें करने वाला,

मोहताज दुध का क्यु हो गया।

मेरे बेटे,

एहतराम भले ना कर मेरा,

अहसान मुझपर एक करना,

चेहरा अपना रोज दिखा देना।

बहु बेटी ना बन सकी तो क्या,

राज यह अपनी बेटी से छुपा लेना।

आईना देखे जो कभी,

झलक मेरी खुद मे पा लेना।

बस यही दुआ है मेरी,


Monday, 6 April 2015

she won't come knocking

Do you think she will come knocking,
Greet you with smile,
With open arms she will wait for you to embrace her,
Do you think she will go back,
If you say No,
Do you think she will come to you,
When you are free,
From all business,
Relaxing....
Do you think she will come to you,
When you gave her your final "Nod
A Big Yes",
NO Dear,
Death will not come knocking,
Nor she will greet you with smile,
But yes she will embrace you,
Only to take you along,
She won't heed to any exigencies,
Your business is not her business,
Her business is to take you along,
Day or night,
Awake or not,
But she will come,
When your time to meet her comes,
As meeting with death,
Is prefixed,
Even before you were born,
Yes,
You can suffix the prefixed with smile,
Hug her with pride,

Shun all fears,

Let her come.............