Search This Blog

Wednesday, 27 August 2014

आम सोच










                      बस की अगली सीट पर बैठी लडकी,

                      सिमटी चिपटी सी ,

                      साथ वाले से हसं कर बाते कर रही थी।

                      न जाने क्यु मुझे वो बुरी लग रही थी।  
        
                      कुछ दिन बाद वो लडकी मेरे पास आकर जो बैठी,

                     सिमटी चिपट कर,

                     हसं कर बातें मुझ से जो करने लगी थी।

                     न जाने क्यु

                     आज वो मुझे अच्छी लग रही थी।


                                जरा सोच के देखो कही यह आप तो नहीं।